The Boatman and His Wife
Seraikela Kharsawan

Seraikela Chhau is a is a semi-classical Indian dance with martial, tribal and folk origins. In Chhau dance of Seraikela, the face is completely concealed by the mask and is emoted kinaesthetically through body movements. The dance of the boatman and his wife is depicted as the practical difficulties in a conjugal life. The dance is traditionally an all males troupe and regionally celebrated during spring every year.

नाविक और उसकी पत्नी
सराईकेला खरसवां

सरायकेला छऊ एक अर्धशास्त्रीय भारतीय नृत्य है जो युद्ध आदिवासी एवं लोक परंपरा से जुड़ा है। सरायकेला छऊ में चेहरे को पूरी तरह से मुखौटे से ढँक लिया जाता है और भावों की अभिव्यक्ति विभिन्न शारिरिक गतियों से की जाती है। नाविक और उसकी पत्नी का नृत्य वैवाहिक जीवन की व्यवहारिक कठिनाईयों के रूप में दर्शाया जाता है। यह नृत्य पारंपरिक रूप से सिर्फ पुरूष कलाकारों के दल द्वारा किया जाता है और विभिन्न क्षेत्रों में हर वर्ष बसंत ऋतु में मनाया जाता है।